ICU Ka Full Form Kya | आईसीयू Kya Hota Hai

68

हेलो दोस्तों आज हम ICU Ka Full Form Kya होता है और ICU Kya Hota Hai इसकी पुरी जानकारी हम इस आर्ट्रिकल में जानेंगे |

ICU Ka Full Form Kya

ICU Ka Full Form Kya Hota Hai

ICU में ऐसे मरीजों को रखा जाता है जिन्हें कोई गंभीर Medical परेशानी होती है उन्‍हे विशेष प्रकार की सेवा दी जाती है इसे इंटेंसिव केयर यानी गहन देखभाल कहा जाता है |

Hospital की जिस वार्ड में यह सेवा दी जाती है उसे Intensive Care Unit यानी ICU यानी गहन देखभाल इकाई कहा जाता है |

ICU Ka Full From – Intensive Care Unit ( इंटेंसिव केयर यूनिट )

ICU Hospital के ऐसे विशेष वार्ड होते हैं जिनमें बहुत अधिक बीमार लोगों के लिए उपचार और निगरानी प्रदान करने का कार्य किया जाता है |

इन वार्ड में विशेष रूप से प्रशिक्षित हेल्थ केयर पेशेवरो को नियुक्त किया जाता है जो मरीजों की देखभाल का काम करते हैं |

यहां पर विशेष निगरानी उपकरण भी होते हैं ICU को कभी कभी गंभीर देखभाल एक इकाई CCU या गहन चिकित्सा इकाई ITU भी कहा जाता है |

हम इस लेख में आपको विस्तार से बताएंगे की ICU क्‍या होता है, ICU के अंदर कौन से उपकरण होते हैं, ICU में मरीजों को क्यों और कैसे रखा जाता है इसके साथ ही यह भी बताएंगे ICU में क्या सावधानी रखी जाती है और ICU में रखने का खर्च कितना होता है |

ICU Kya Hota Hai

गहल देखभाल का तात्पर्य उन रोगियों को दिए गए विशेष उपचार से है जो गंभीर रूप से अस्वस्थ होते हैं और उन्‍हे 24 घंटे कड़ी देखभाल की आवश्यकता होती है |

जब तक आप किसी आपातकालीन सेवा के लिए भर्ती नहीं किए जाते हैं तब तक आप को ICU में भर्ती होने के लिए अपने डॉक्टर यह विशेषज्ञ द्वारा रेफर करने की आवश्यकता होगी |

कई अलग-अलग प्रकार के रोगियों को ICU में भर्ती कराया जाता है कुछ रोगी सीधे आपातकालीन विभाग से आते हैं तो कुछ Hospital के भीतर अन्य वार्ड से उनकी बीमारी में जटिलताओं के कारण आते हैं |

ICU में वैसे तो कई प्रकार के मरीज होते हैं लेकिन उन सभी को एक ही चीज की आवश्यकता होती है निरंतर अवलोकन और विशेष देखभाल की |

ICU में उन लोगों की देखभाल की जाती है जिनका जीवन गंभीर बीमारी या दुर्घटना में चोट के कारण खतरे में होता है |

जहां हर पल निगरानी और जीवन सहायता उपकरण पर रखा जाता है यह Hospital के अन्य वार्डो से अलग स्थिति होती है जैसे कि –

1 ICU में विशेषज्ञों की एक उच्च प्रशिक्षण प्राप्त टीम द्वारा 24 घंटे देखभाल प्रदान की जाती है |

2 यहां पर बहुत कम बिस्‍तर होते हैं जिनमें बहुत से उकारण गंभीर रूप से बीमार मरीजों की निगरानी और देखभाल करते है |

3 बहुत कम लोगों को मरीज से मिलने की अनुमति होती है |

ICU में उपकरण कौन – कौन से होते है 

जब आप पहली बार ICU में अपने किसी सगे संबंधी से मिलने जाते हैं तो उन चीजों में से एक जो आप को चिंतित कर सकती हैं वह आपके परिवार के सदस्य से जुड़े उपकरण और मशीनों की संख्या है |

ICU में विभिन्न प्रकार के साधन या उपकरण होते हैं जो निम्नलिखित हैं –

1 Ventilator – एक वेंटिलेटर को उपयोग तब किया जाता है जब रोगी इतने कमजोर या बीमार होते हैं कि खुद सांस भी नहीं ले सकते हैं जब आपके परिवार के सदस्य यह मित्र वेंटिलेटर पर होते हैं |

तो वह आप से बात करने में सक्षम नहीं होते आपको अगर उनसे बात करनी है तो इस तरह के सरल प्रश्न पूछने चाहिए जिसका जवाब वह सिर हिलाकर हां या ना में दे सकते हैं |

रोगी को अक्सर उन्हें आराम में रहने के लिए अत्यधिक बेहोश किया जाता है तो भी नींद में हो सकते हैं और इसलिए हमेशा आपकी बात का जवाब नहीं दे सकते |

2 Heart Monitor – एक हार्ड मॉनिटर स्क्रीन पर चलने वाली रंगीन रेखाओं के साथ एक टेलीविजन की तरह दिखता है कि रेखाएं रोगी के दिल की गतिविधि को मापती है

हार्ड मॉनिटर रोगी से स्‍टीगी पैड चिपकने पैड के द्वारा त्वचा से जुड़ा हुआ होता है बीप और अन्य शोर इलेक्ट्रॉनिक मशीनों द्वारा दिए जाने वाले अलर्ट होते हैं ताकि नर्स को पता चल सके कि कुछ ध्यान देने की जरूरत है |

3 Feeding Tubes – फिडींग ट्यूब खिलाने की नली अगर कोई मरीज सामान्य रूप से खाने में असमर्थ होता है तो उसके नाक में पेट में बने छोटे काण के माध्यम से या एक नस में ट्यूब के माध्यम से भोजन दिया जाता है |

4 ड्रैंस और कैथेटर – ड्रैंस शरीर से रक्‍त या तरल पदार्थ के किसी भी निर्माण को हटाने के लिए उपयोग की जाने वाली ट्यूब होती है |

कैथेटर मूत्र को निकालने के लिए मूत्राशय में डाली गई पतली ट्यूब होती है |

ICU Ka Full Form Kya

यह मशीनें और मोनीटर गहन देखभाल को जितना संभव हो सके उतना सुरक्षित और प्रभावी बनाने में मदद करते हैं |

Patient को ICU में क्यों रखा जाता है

अगर कोई गंभीर रूप से बीमार है और उसे गहन उपचार और गरीबी निगरानी की आवश्यकता है या यदि किसी की सर्जरी हुई है और गहन देखभाल से उनको मदद मिल सकती है तो मरीज को ICU में रखने की आवश्यकता होती है |

कई अलग-अलग स्थितियां और परिस्थितियां हैं जिनमें किसी को ICU में रखे जाने की आवश्यकता हो सकती है |

कुछ सामान्य कारणों में शामिल है जैसे कि कोई बड़ी सर्जरी की गई हो, गंभीर दुर्घटना जैसे कार दुर्घटना, गंभीर रूप से जलने पर इसके बाद के उपचार के लिए , किसी भी प्रकार की गंभीर बीमारी |

उदाहरण के लिए हार्ड फेल, किडनी फेल, स्‍ट्रोक या दिल का दौरा इन सबकी होने पर किसी गंभीर संक्रमण के दौरान उदहारण के लिए –

निमोनिया, स्‍पसीस इनके इलाज के लिए यदि कोई बच्चा समय से पहले पैदा हो या गंभीर बीमारी के साथ पैदा होता है बच्चों के लिए आमतौर पर नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट या NICU नामक एक विशेष ICU होता है |

यह भी पढेे

Patient को ICU में कैसे रखा जाता है

ICU में मरीजा पर ICU कर्मचारियों की एक टीम द्वारा बारीकी से निगरानी रखी जाती है और कई ट्यूबो, तारो और कैबल्‍स द्वारा उपकरण से मरीजों को जोड़ा जाता है |

आमतौर पर प्रत्येक एक या दो रोगियों के लिए एक नर्स होती है ICU में रोगियों को एक मशीनों की एक विस्तृत श्रृंखला से जोड़ा जा सकता है |

लेकिन जो सबसे आम मशीनें है वे हार्ट् मोनिटर और कृत्रिम वेंटिलेटर है कई ICU मशीन है बीप की आवाज करती हैं |

और यदि रोगी की स्थिति में कोई बदलाव होता है तो कर्मचारियों का ध्यान रोगी की तरफ आकर्षित करने के लिए छोड़ शोर करती है और अलार्म बजाती है |

जो मरीज स्वयं भोजन नहीं कर पाते हैं उन मरीजों को तरल पदार्थ या पौषक तत्‍व  या अन्य तरल पदार्थ के लिए कई ट्यूब लगाने की संभावना होती है |

ICU में कई प्रशिक्षित कर्मचारी होते हैं प्रत्येक मरीज के लिए आमतौर पर एक समर्पित विशेषज्ञ नर्स होती हैं |

जो नियमित रूप से उपकरण और किसी भी जन सहायता प्रणाली की जांच करती है ICU हेल्थकेयर टीम अच्छे से समझते हैं |

जैसे कि ICU में इंसान कितना परेशान हो सकता है इसीलिए तत्काल परिवार का समर्थन करने के लिए उपलब्ध होते हैं |

ICU में क्या सावधानियां रखी जाती है

ICU में प्रत्येक रोगी बहुत अधिक अस्वस्थ होता है इसीलिए प्रत्येक Hospital में मरीज से मिलने वालों के लिए एक निधि होती है जैसे कि –

1 आपको अपने Mobile Phone बंद कर देनी चाहिए |

2 आपको रोगी के लिए उपहार लाने से भी मना किया जा सकता है |

3 यदी आप किस कारण से अस्वस्थ महसूस कर रहे हैं तो फिर रोगी से मिलने आपको नहीं किया जाना चाहिए |

ICU Kya Hota Hai

4 रोगी से मिलने के घंटे आमतौर पर बहुत पेचीदे हो सकते हैं लेकिन ऐसा समय भी हो सकता है जो मिलने की अनुमति नहीं दी जाती है इस लिए मिलने आने से पहले आपको इसके बारे में पता कर लेना चाहिए |

5 व्यक्ति के बिस्तार के आसपास मिलने वाले लोगों की संख्या सीमित हो सकती है |

6 संक्रमण फैलने के जोखिम को कम करने के लिए आपको ICU में प्रवेश करने और जाने के दौरान अपने हाथों को साफ करने के लिए कहा जाएगा |

7 आपको कुछ चीजें जैसे फूलों को लाने से रोका जा सकता है |

8 जिस व्यक्ति को आप मिलने जा रहे हैं तो नींद में हो सकता है और उलजन में लग सकता है |

लेकिन चिंता ना करें क्योंकि ICU के कर्मचारी यह सुनिश्चित करेंगे कि लोग जितना संभव हो उतनी आरामदायक स्थिति में रहे |

9 आप आमतौर पर व्यक्ति को छूने आराम से बात करने के लिए स्वतंत्र होंगे यह उन्हें परिचित आवाज सुनने और पहचानने में मदद कर सकता है |

भले ही वह जवाब देने की स्थिति में ना हो आप उन्हें अपने दिल के बारे में बता सकते हैं उन्हें कोई किताब या समाचार पत्र पढ़कर सुना सकते हैं |

10 आप उन्हें अधिक आरामदायक बनाने के लिए कुछ चीजों को ला सकते हैं लेकिन अगर आप कुछ भी ले जाना चाहते हैं तो कर्मचारियों से पहले पुछ लें |

आपकी किसी भी प्रश्न का उत्तर देने के लिए ICU कर्मचारी आपकी यात्रा के दौरान पास में होंगे केवल परिवार के सदस्यों को भी रोगी के बारे में जानकारी दी जा सकती है |

जब रोगी की देखभाल की जाती है तू गोपनीयता हमेशा बनाए रखी जाती है मरीजों को आमतौर पर यहां से एक अन्य वार्ड में तब ले जाया जाता है जब उन्हें इस तरह के निरंतर ध्यान यह मदद की आवश्यकता नहीं रहती है |

एक बार जब कोई व्यक्ति घर जाने के लिए पर्याप्त रूप से ठीक हो जाता है तो आम तौर पर उन्हें घर पर देखभाल के लिए दवाओं और निर्देशों के साथ छुट्टी मिल जाती है |

उन्‍हे Hospital क्‍लीनीक या डॉक्टर से आगे की देखभाल के लिए मिलने की आवश्यकता भी हो सकती है |

ICU में ट्रीटमेंट करवाने की कीमत क्या होती है

ICU में रखने की लागत मरीज के लिए आवश्यक प्रक्रियो, ICU में बिताए गए समय और विशेष देखभाल की आवश्यकता ऊपर निर्भर करती है |

भारत में एक निजी Hospital में ICU में मरीज की भर्ती रहने के लिए कहीं भी ₹30000 से ₹50000 के बीच प्रतिदिन खर्च आ सकता है |

इतनी बड़ी लागत के कारण आप घर पर ICU सेवाओं का चयन कर सकते हैं घर पर यही लागत प्रतिदिन मात्र ₹7500 से लेकर ₹12500 तक आती है |

आशा है कि दोस्तों आपको दिया गया आर्टिकल ICU Ka Full Form Kya or ICU Kya Hota Hai के ऊपर संपूर्ण जानकारी मिल गई होगी हमारी हमेशा यही कोशिश रहती है कि दिए गए विषय के ऊपर पूरी जानकारी मिले जिससे कि आपको और कहीं जाने की जरूरत ना पड़े |

अगर आपको यह आर्टिकल ICU Ka Full Form Kya or ICU Kya Hota Hai  अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिए ताकि यह महत्वपूर्ण जानकारी उनको भी मिल सके अगर आपको इस आर्टिकल संबंधित कोई सुझाव हो तो हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here