Dark Web Kya Hai

10

इंटरनेट ने आपकी और हमारी जिंदगी को काफी आसान और सरल बना दिया है या ऐसा भी कहे कि पूरी तरीके से बदल दिया है |

Dark Web Kya Hai

यहां पर आपको पेरेंटिंग से लेकर स्टडी तक, जॉब से लेकर बैंकिंग तक हर चीज से जुड़े इंफॉर्मेशन पलक झपकते ही मिल जाती है |

क्या आप जानते हैं कि जिस इंटरनेट से आप और हम इतने करीबी हो चुके हैं कि उसकी एक डार्क वेबसाइट भी है ?

जहां पर आप की एक छोटी सी गलती भी आपको एक भारी मुसीबत में फंसा सकती है जिसको हम जानेगे की Dark Web Kya Hai.

Dark Web Kya Hai

इंटरनेट को आप जितना आसान समझते हैं यह उतना आसान है नहीं बल्कि यह उससे कहीं ज्यादा कठिन है इंटरनेट या वेब को तीन हिस्सों में बांटा जाता है |

1 Surface Web

2 Deep Web

3 Dark Web

Surface Web – जितना इंटरनेट आप एक्सेस करते हैं या कर सकते हैं यह पूरे इंटरनेट का केवल 4% होता है और इसको सरफेस वेब कहते हैं |

यानी जो भी कुछ आप गूगल, यूट्यूब पर सर्च करते हैं जितना कॉन्टेंट लाखों वेबसाइट पर देखते हैं वह भी इसी 4% में ही आता है |

Deep Web – यह इंटरनेट का वह भाग है जो सर्च इंजन से छुपा होता है यहां पर ऐसे लिंक और वेबसाइट होती है जो आपको गूगल या दूसरे सर्च इंजन पर नहीं मिलेगी |

जैसे कि आपकी बैंक डिटेल, किसी भी कंपनी का प्राइवेट डाटा, गवर्नमेंट की खुफिया जानकारी आदि |

इनको एक्सेस करने के लिए आपको एक लिंक और अलग से एक यूजर नेम और पासवर्ड की जरूरत पड़ती है और कोई भी साधारण आदमी यहां तक नहीं पहुंच पाता |

Dark Web – यह इंटरनेट का अंडरवर्ल्ड है यहां पर ज्यादातर अनलीगल काम होते हैं जहां तक कि आप सोच भी नहीं सकते |

यह इंटरनेट के समुंदर का वह हिस्सा है जहां पर बड़ी बड़ी शार्क होती है और लोगों को अपना शिकार बनाती है |

यहां पर ऐसी वेबसाइट और लिंक होते हैं जो आप अपने ब्राउज़र पर भी नहीं खोल पाएंगे |

Dark Web की वेबसाइट सिर्फ कुछ स्पेशल ब्राउज़र से ही खुलती है जो मास्क आईपी ऐड्रेस यूज करती हो ताकि विजिटर कि कोई पहचान ना हो पाए और उन्हें कोई ट्रैक नहीं कर पाए |

आप इसको इस प्रकार समझने की इंटरनेट एक विशाल बर्फ का टुकड़ा है और जो बर्फ का छोटा हिस्सा है वह सरफेस है |

Dark Web Kya Hai

जिसे आप और हम खोल पाते हैं बर्फ के टुकड़े का बीच का हिस्सा है वह डीप वेब है |

और जो सबसे नीचे है विशाल पानी के अंदर यानी जो सबसे ज्यादा है वह Dark Web है जिसे आप और हम देख नहीं सकते |

Dark Web कितना बडा है ?

सरफेस वेब के मुकाबले डार्क वेब काफी बड़ा है और इसका साइज लगातार बढ़ रहा है |

2001 में की गई यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की रिसर्च के मुताबिक Dark Web पर करीब 7500 टेराबाइट इंफॉर्मेशन अवेलेबल है |

जबकि सरफेस वेब पर यह सारी इनफार्मेशन मिलाकर कुल 19 टेराबाइट इंफॉर्मेशन अवेलेबल है मतलब कि 400 गुना ज्यादा इंफॉर्मेशन |

परंतु अभी 2 सालों में यह हजारों गुना बढ़ गई है ऐसे ही Dark Web की 60 सबसे बड़ी वेबसाइट पूरे सरफेस वेब से इंफॉर्मेशन के मामले में 40 गुना ज्यादा बड़ी है |

यानी Dark Web कि सिर्फ 40 वेबसाइट पर आपके और हमारे इंटरनेट से 40 गुना ज्यादा कॉन्टेंट है |

Dark Web Kya Hai

जब आप इंटरनेट पर कुछ सर्च करते हैं तो आप पूरे इंटरनेट का 0.03% ही सर्च करते हो इससे आप अंदाजा लगाइए कि Dark Web कितना बड़ा है और फास्ट है |

Dark Web में होता क्‍या है ?

Dark Web इंटरनेट की दुनिया का अंडरवर्ल्ड है और इस जगह को क्रिमिनल गलत काम के लिए भी इस्तेमाल करते हैं |

यहां पर किसी भी कंट्री के फर्जी पासपोर्ट, आपके और हमारे क्रेडिट और डेबिट कार्ड, ड्रग्स, इन लीगल वेपंस, गंस, फेक करंसी, कॉन्ट्रैक्ट किलर, फ्रॉड और एक्सट्रेशन सर्विस से लेकर सब कुछ अवेलेबल होता है |

पिछले साल एक रिपोर्ट आई थी जिसके मुताबिक इंडिया के लोगों के करीब 13 लाख क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड की डिटेल Dark Web पर अवेलेबल है |

और यह डिटेल $100 पर कार्ड की कीमत पर बेची जाती है यहां पर इन लीगल वेपन की मार्केट बैैसेज होते हैं |

जहां पर क्रिमिनल वह हर चीज खरीद पाते हैं जो उन्हें और कहीं नहीं मिल सकती |

यहां पर क्रिमिनल यूनिवर्सिटी की फर्जी डिग्रियां और सर्टिफिकेशन बेचते हैं और उनसे पैसा कमाते हैं |

लोग हैकर को हायर करते हैं जो कि यूनिवर्सिटी की साइट को हैक करके उनके क्रेडिट तक चेंज कर देते हैं |

Dark Web पर फर्जी पासपोर्ट बहुत कॉमन सी बात है यहां पर क्रिमिनल किसी भी देश का फर्जी पासपोर्ट हासिल करते हैं

 

जैसे Dark Web पर USA के पासपोर्ट की कीमत है $1500 यानी करीब ₹100000 है |

Dark Web पर ऐसे ही एक वेबसाइट थी सिल्क रूट के नाम से जहां पर यह सारा इनलीगल काम होता था |

इस वेबसाइट को US इंटेलिजेंट एजेंसी FBI ने सीज किया और 2013 में इसको बंद कर दिया गया |

इस वेबसाइट पर लोगों के क्रेडिट कार्ड में डेबिट कार्ड की डीटेल्स, सीवीवी नंबर, बर्थ सर्टिफिकेट, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस और ड्रग से लेकर सब कुछ मिलता था |

यहां पर सारे ट्रांजैक्शन वर्चुअल करंसी जैसे बिटकॉइन मैं होते थे सिर्फ 2 साल में सिल्क रूट ने 95 लाख बिटकॉइन्स कमाए जो करीब 180 बिलियन डॉलर के बराबर होते हैं |

इसको इंडियन करेंसी में कन्वर्ट करने के लिए आपको 180 अरब को 70 से गुणा करना होगा और यह कमाई सिल्क रूट ने इनलीगल ट्रांजैक्शन के जरिए सिर्फ 2 साल में की |

Dark Web पर सिल्क रूट से बड़ी भी वेबसाइट एक्सेस करती है यह सब इन लीगल ट्रांजैक्शन के जरिए पैसा कमाते हैं |

इंटरनेट की इस अंडरवर्ल्ड में टेररिज्म भी फैलाया जाता है टेररऑर्गेनाइजेशन Dark Web का सहारा लेकर अपने प्रोपेगंडा फैलाते हैं |

ऐसी खबरें आती रहती है टेररिस्ट ग्रुप जैसे आईएसआईएस अपने प्रोपेगेंडा वीडियो बनाकर डालते थे वह भी इन्हीं सोर्स के जरिए |

Dark Web को किसने बनाया ?

Dark Web के बारे में इतनी बातें जानकर आपको लग रहा होगा किसको किसी बड़े क्रिमिनल ने डिवेलप किया होगा पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है |

दरअसल Dark Web Onion Routing तकनीक पर वर्क करती है |

जिसको अमेरिकन नेवी ने अपनी गवर्नमेंट के लिए डिवेलप किया था सन 1990 में |

इसका इस्तेमाल गवर्नमेंट के खुफिया डॉक्यूमेंट और जानकारी भेजने के लिए होता था ताकि उनको हैक या लिक होने से बचाया जा सके |

इसके लिए एक पर्टीकूलर ब्राउज़र भी डेवलप किया गया था जो Onion Routing तकनीक पर चलता है |

इसका नाम ओनियन यानी प्याज पर इसलिए रखा गया जिससे कि प्याज पर काफी सारी लेयर होती है |

इस पार्टिकुलर ब्राउजर के जरिए भी जो मैसेज भेजा जाता है तो वह सेंडर का आईपी एड्रेस कहीं लीयर में इंक्रिप्ट किया होता है |

Dark Web Kya Hai

Dark Web पर डाटा बहुत सारे वीपीएस और नेटवर्क से बाउंस होकर पहुंचता है जिसकी वजह से यूज़र और वेबसाइट दोनों खुफिया रहते हैं |

Dark Web को एक्सेस करने के लिए अनोरमें‍टी चाहिए होती है ताकि वहां पर किसी को ट्रैक ना किया जा सके और यह काम Onion Routing तकनीक करती है |

Dark Web एक ऐसी वर्चुअल दुनिया है जिसे आप हमेशा दूर ही रहे क्योंकि अगर आप यहां पर जाते हैं तो सबसे बड़ा खतरा किसी और को नहीं बल्कि आप ही को होगा |

यहां पर बड़े-बड़े हैकर्स बैठे रहते हैं नए-नए शिकार की तलाश में आपके एक क्लिक करने पर से आपकी सारी प्राइवेट जानकारी आपका पूरा डाटा उनको हाथ लग जाएगा |

Dark Web पर होने वाले कामों पर इंटेलिजेंटस एजेंसी की भी नजर रहती है और यह एजेंसी बड़े-बड़े क्रिमिनल रिकॉर्ड का पता लगाकर उनका काम तमाम करती है |

तो आपके लिए हमेशा यही एडवाइज है कि आप Dark Web जैसी वेबसाइट से हमेशा के लिए दूर रहे क्योंकि आपकी एक गलती आपको हमेशा के लिए मुसीबत में डाल सकती है |

आशा है कि दोस्तों आपको दिया गया आर्टिकल Dark Web Kya Hai के ऊपर संपूर्ण जानकारी मिल गई होगी हमारी हमेशा यही कोशिश रहती है कि दिए गए विषय के ऊपर पूरी जानकारी मिले जिससे कि आपको और कहीं जाने की जरूरत ना पड़े |

अगर आपको यह आर्टिकल Dark Web Kya Hai अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिए ताकि यह महत्वपूर्ण जानकारी उनको भी मिल सके अगर आपको इस आर्टिकल संबंधित कोई सुझाव हो तो हमें नीचे कमेंट में जरूर बताएं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here