Difference Between Current Account and Savings Account

10

दोस्तों हम जब एटीएम में कैश विड्रोल करने जाते हैं अक्सर हमें एक ऑप्शन देखते हैं कि आप Saving Account से पैसे विड्रोल करना चाहते हैं या Current Account से पैसे विड्रोल करना चाहते हैं |

या फिर हम जब बैंक में अपना अकाउंट ओपन करवाना जाते हैं तो हमसे पूछते हैं कि कौन सा अकाउंट खोलना है Saving Account या Current Account.

Difference Between Current Account and Savings Account

 

इसमें हम कंफ्यूज हो जाते हैं कि यह Saving Account क्या है और Current Account क्या है दोनों में क्या अंतर है (Difference Between Current Account and Savings Account )क्या यह अकाउंट हम ओपन करवा सकते हैं या नहीं |

वैसे तो बैंक में कई तरह के अकाउंट ओपन किए जाते हैं लेकिन मुख्य रूप से केवल दो ही अकाउंट ओपन किए जाते हैं

पहला Saving Account

दूसरा Current Account

आज मैं आपको Saving Account और Current Account में क्या Difference है वह मैं बताने वाला हूं  जिसे जानने के बाद आप की यह कंफ्यूजन दूर हो जाएगी की Current Account क्या है और Saving Account क्या है

Who can open Current Account & Saving Account

Saving Account  कोई भी ओपन करा सकता है यह अपने पर्सनल use के लिए काम आता है जिसमें हम अपनी बचत की हुई राशि को जमा करते हैं जो नॉर्मल अकाउंट ओपन किया जाता है वह Saving Account ही होता है |

Current Account को हर कोई ओपन नहीं कराया सकता Current Account केवल बिजनेस रिलेटेड ट्रांजैक्शन करने के लिए ओपन कराया जाता है | लेकिन कोई बिजनेसमैन है जिनका कोई छोटा या बड़ा बिजनेस है वही लोग यह अकाउंट ओपन करा सकते हैं हर कोई व्यक्ति यह अकाउंट ओपन नहीं करा सकता है |

whose name can you open Current Account & Saving Account

Saving Account हम अपने खुद के नाम से ओपन करते हैं माना कि मुझे एक सेविंग अकाउंट ओपन करवाना है तो वह अकाउंट में अपने खुद के नाम से ओपन करवा लूंगा |

एक सेविंग अकाउंट में हम एक से अधिक लोगों का  नाम जुड़वा सकते हैं यानी कि हम उसको ज्वाइंट अकाउंट ओपन करवा सकते हैं

Current Account की बात की जाए तो आप जिस नाम से बिजनेस चला रहे हैं उसी नाम से अकाउंट ओपन करा सकते हैं

माना कि आप एक दुकान चलाते हैं तो आपकी जो दुकान का नाम होगा उसी नाम से आप बैंक में करंट अकाउंट खुलवा सकते हैं और जो व्यक्ति उस दुकान को चला रहा है तो वह व्यक्ति उस अकाउंट का  ऑथराइज्ड सिग्नेटरी होगा ।

ऑथराइज्ड सिग्नेटरी मतलब उस व्यक्ति के सिग्नेचर से बैंक के अंदर लेेेन देेन होगा उसी व्यक्ति के सिग्नेचर से कोई चेक पास होगा अधिक काम उसी करंट अकाउंट मैं होंगे ।

Current Account में एक से अधिक ऑथराइज्ड सिग्नेटरी को ऐड किया जा सकता है यानी कि Current Account भी ज्वाइंट अकाउंट की तरह ओपन किया जा सकता है ।

Current Account हम किसी

फर्म के नाम पर सोसायटी के नाम पर

कोऑपरेटिव लिमिटेड के नाम पर

प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर

किसी संस्था के नाम पर ही ओपन करते हैं किसी भी व्यक्ति के नाम पर ओपन नहीं करते हैं उसमें किसी व्यक्ति को ऑथराइज्ड सिग्नेटरी के रूप में ऐड करते हैं|

Transaction Limit of Current Account & Saving Account

Saving Account में आप एक लिमिट तक ही ट्रांजैक्शन कर सकते हैं आप महीने में पांच बार इसमें ट्रांजैक्शन कर सकते हैं चाहे आपको पैसे जमा करने हो चाहे आपको पैसे निकालने हो |

अगर महीने में 5 से अधिक ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपको कुछ चार्ज बैंक को देना होगा |

उसी तरह से अगर आप एटीएम से कैश निकालते हैं तो अपने बैंक के एटीएम से 5 बार और अदर बैंक के एटीएम से तीन बार केस निकाल सकते हैं |

current account balance of payments

अगर आप इन से ज्यादा ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपको ट्रांजैक्शन चार्जेस देने होंगे |

क्योंकि सेविंग अकाउंट का मेन परपज होता है कि अपने अमाउंट को सेव करना जरूरत पड़ने पर हम पैसे जमा करते हैं और जरूरत पड़ने पर हम पैसे निकालते हैं इसलिए हमें इसमें कुछ लिमिट दी गई है |

Current Account की बात करें तो आप करंट अकाउंट में अनलिमिटेड ट्रांजैक्शन कर सकते हैं जो कि इस अकाउंट की सबसे बड़ी खासियत है |

आप 1 दिन में इस अकाउंट में कितनी भी बार पैसे जमा कर सकते हैं और कितने भी बाहर इसमें से पैसे निकाल सकते हैं |

आप एटीएम से कितनी भी बार ट्रांजैक्शन कर सकते हैं और उसमें से कितने भी बार पैसे निकाल सकते हैं आपको इसके कोई चार्ज नहीं देने होंगे |

interest rate

Saving Account में आपने जो पैसा जमा किया है उसका आपको एक ब्याज मिलता है आज के समय में जो सरकारी बैंक है वह 3.30 % का ब्याज दे रहे हैं और जो प्राइवेट बैंक है वह थोड़ा ज्यादा ब्याज देते हैं 4 से 6 % तक आपको ब्याज मिल जाता है |

इसमें आप जो पैसा जमा करते हैं तो उसके साथ-साथ आपको थोड़ी बहुत कमाई भी हो जाती है उसका ब्याज मिल जाता है |

Current Account की बात करें तो आपको इसमें कोई भी ब्याज नहीं मिलता है क्योंकि इसमें बहुत ही जल्दी जल्दी ट्रांजैक्शन होते हैं इसमें हम 1 दिन में कई ट्रांजैक्शन कर देते हैं इसलिए हमें कोई ब्याज नहीं मिलता है |

Overdraft Facility

Saving Account में आपको कोई ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी नहीं मिलती है इसका मतलब यह है कि आपके अकाउंट में कितना पैसा जमा है आप उतने ही पैसे निकाल सकते हैं उससे ज्यादा आप पैसे नहीं निकाल सकते हैं |

जैसे कि आपके अकाउंट में ₹10000 जमा है और अगर आपको ₹15000 की जरूरत पड़ गई तो आप केवल ₹10000 ही निकाल सकते हैं ₹15000 नहीं |

Current Account की बात करें तो आपको ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी मिलती है मतलब कि बैंक आपको एक तरह से लोन देता है ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी जो आपका करंट अकाउंट है उसके टर्नओवर और ट्रांजैक्शन को देख कर दी जाती है |

इसमें एक अमाउंट की लिमिट होती है एक लाख, दो लाख, 500000 लिमिट फिक्स कर दी जाती है की आपको जरूरत पड़ने पर आप इतने अमाउंट निकाल सकते हैं | जोकि बैंक आपको लोन की तरह दे रहा है जब भी आपके पास पैसे आ जाएंगे तो आप वह पैसा भर देंगे ब्याज के साथ |

यह भी एक बहुत अच्छी फैसिलिटी देता है बैंक करंट अकाउंट के लिए कि अगर आपके बिजनेस के लिए कहीं से भी अचानक पेमेंट की आवश्यकता पड़ जाती है तो आप उम्र प्राप्त कर सकते हैं |

what is saving account and current account

Minimum Balance Mantan Saving Account and Current Account

Saving Account में आपको एक मिनिमम अमाउंट बैलेंस करके रखना होता है वैसे तो सेविंग अकाउंट भी कई प्रकार के होते हैं

नो फ्रिल अकाउंट

जीरो बैलेंस अकाउंट

जन धन अकाउंट

स्टूडेंट अकाउंट यह कुछ इस प्रकार के अकाउंट है जिसमें आपको बैलेंस मेंटेन करने की जरूरत नहीं है हम इन्हें ₹0 से भी ओपन कर सकते हैं |

लेकिन इनकी जो ट्रांजैक्शन के लिमिट होते हैं वह थोड़े से अलग होते हैं |

अगर बात करें एक नॉरमल सेविंग अकाउंट होता है जो जनरल अकाउंट ओपन किया जाता है उसमें आपको एक मिनिमम बैलेंस मेंटेन करके रखना होता है जो मिनिमम बैलेंस है जो गवर्नमेंट बैंक है उनमें ₹500 से लगाकर ₹5000 तक होता है वहीं प्राइवेट बैंकों में थोड़ा ज्यादा मिनिमम बैलेंस मेंटेन करना पड़ता है |

अगर आप मंथली यह मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करते हैं तो आपको कुछ चार्ज आप को पेनल्टी के रूप में देना पड़ता है |

Current Account की बात करें तो आपको मिनिमम बैलेंस मेंटेन करना होता है करंट अकाउंट भी अपने फीचर्स के साथ हिसाब से कई प्रकार के होते हैं |

जो नॉर्मल करंट अकाउंट होता है उसमें सरकारी बैंक में आपको मिनिमम  ₹5000 से ₹1000000 तक मिनिमम बैलेंस होता है और यह प्राइवेट बैंकों में थोड़ा ज्यादा होता है |

अगर करंट अकाउंट में भी हम मिनिमम बैलेंस मेंटेन नहीं करते हैं तो हमको पेनल्टी चार्ज देना पड़ता है |

तो दोस्तों यह मेन Difference Between Current Account and Savings Account में जिसे जानने के बाद आप के सभी डाउट क्लियर हो गए होंगे कि कौन सा Savings Account अकाउंट है और कौन सा Current Account और हमें कौन सा अकाउंट खुलवाना चाहिए और इसके क्या क्या फायदे हैं तो दोस्तों कैसी लगी आज की हमारी यह पोस्ट हमें  कमेंट करके जरूर बताइए |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here